Google+ Badge

Sunday, 2 October 2016

ज़िन्दगी पानी का बुलबुला है ,

ज़िन्दगी पानी का बुलबुला है ,जो कब फूट जाये कुछ कहा नहीं जा सकता
-सालिहा मंसूरी

04 .08 14 

1 comments:

संजय भास्‍कर said...

:)

Post a Comment