Google+ Badge

Thursday, 26 January 2017

उनसे बिछड़े इक जमाना हो गया

उनसे बिछड़े इक जमाना हो गया 
वो क्या मिले कि वो पल 
इक फ़साना बन गया ..... 


सालिहा मंसूरी

0 comments:

Post a Comment