Google+ Badge

Thursday, 24 March 2016

कब तक जलती रहूँ
तेरी उलझी हुई
यादों का दिया
इस अँधेरे से घर में ......

0 comments:

Post a Comment