Google+ Badge

Sunday, 1 January 2017

तस्वीर बनाना सीखा था

तुम मिले तब इस दिल ने
धड़कना सीखा था
तुम मिले तब इन आँखों ने
सपनों को बुनना सीखा था
तुम मिले तब इन हांथों ने
तस्वीर बनाना सीखा था
तुम मिले तब इन लबों ने
मुस्कुराना सीखा था 

और आज तुम्हारे बिना
न दिल धड़कता है
न आँखें सपने बुनती हैं
न हाथ तस्वीर बनाते हैं
और न लब मुस्कुराते हैं
आज तुम्हारे बिना
ये सब इक बुत
बनकर रह गए हैं ---- 



सालिहा मंसूरी


05.09.15 6:39 am 

0 comments:

Post a Comment