Saturday, 14 January 2017

न मैं बदली हूँ

न मैं बदली हूँ
न ये आईने बदले हैं 

बस ! कुछ रिश्तों के 
मायने बदले हैं .....


सालिहा मंसूरी

0 comments:

Post a Comment