Google+ Badge

Tuesday, 17 January 2017

अंधेरों में तेरे होने का एहसास है

अंधेरों में तेरे होने का एहसास है 
सितारों में तेरे होने का ख्वाब है 

तुम खुश रहो सलामत रहो 
ये मेरी हर धड़कन की आवाज़ है .....


सालिहा मंसूरी

0 comments:

Post a Comment