Google+ Badge

Tuesday, 14 November 2017

हर रात के साथ – साथ

हर रात के साथ – साथ
ये दिन भी ढल जाएंगे
हवाओं के साथ – साथ
ये ग़म भी खो जाएंगे
वक़्त के साथ – साथ
ये ज़ख्म भी भर जाएंगे ....

- सालिहा मंसूरी
09.02.16     08.30 pm

0 comments:

Post a Comment