Google+ Badge

Saturday, 15 October 2016

कोई मरहम नहीं

वक़्त से बड़ा कोई मरहम नहीं

-सालिहा मंसूरी

05.06 .15  03.35 pm 

0 comments:

Post a Comment