Google+ Badge

Friday, 21 October 2016

सोचा था कि वो आएगा

सोचा था कि वो आएगा
मेरी डूबी हुयी कश्ती को बचाने
कभी सोचा न था कि वो
चला जाएगा ,
इस दिल को दुखा कर.....

सालिहा मंसूरी

12.07.15  9:44 am 

0 comments:

Post a Comment