Google+ Badge

Sunday, 18 December 2016

जिन राहों में तुम मुझे छोड़ कर गए थे

जिन राहों में तुम मुझे
छोड़ कर गए थे
आज भी मैं उन्हीं ,
राहों में खड़ी
तुम्हारा इंतज़ार
कर रही हूँ
बिलकुल अकेली
और तन्हा
सिर्फ इस उम्मीद से
कि इक न इक दिन
तुम जरुर लौट
कर आओगे
और मुझे वहीं
खड़ा हुआ पाओगे
जहाँ तुम मुझे छोड़कर
गए थे बिलकुल अकेली
और तन्हा ...................


सालिहा मंसूरी 

1 comments:

Digamber Naswa said...

इंतज़ार का मजा भी शायद इसी में है ... प्रेम हो तो इंतज़ार लम्बा नहीं लगता ...

Post a Comment