Google+ Badge

Thursday, 29 December 2016

तसव्वुर में चेहर तेरा

क्यों हर वक़्त रहता है
तसव्वुर में चेहर तेरा
क्यों नहीं भुला पाती
वो धुंधला सा चेहरा तेरा
क्यों याद करता है –
ये दिल
उन बीते लम्हों को बार-बार
जो बीत गया उसे ये दिल
भुला क्यों नहीं पाता ............... 



सालिहा मंसूरी

0 comments:

Post a Comment