Google+ Badge

Sunday, 29 January 2017

हसीं है हर शाम तेरे मैख़ाने में

हसीं है हर शाम तेरे मैख़ाने में 
जवां है हर जाम तेरे पैमाने में


सालिहा मंसूरी

0 comments:

Post a Comment