Google+ Badge

Monday, 30 January 2017

बीते दिनों तुमसे बिछड़े

बीते दिनों तुमसे बिछड़े 
इक अरसा हो गया 
लेकिन हर -दिन 
हर -पल, हर- क्षण 

तुम याद आते रहे 
और धड़कते रहे 
इस धड़कन में 
इक ख्वाब की तरह 

वो ख्वाब जो कभी 
पूरा न हो सका
लेकिन उस ख्वाब को 
पूरा करने की ख्वाहिश 

आज भी बाक़ी है 
इस दिल में 
इक विशवास की 
जीत की तरह .....


सालिहा मंसूरी

3 comments:

kuldeep thakur said...

दिनांक 31/01/2017 को...
आप की रचना का लिंक होगा...
पांच लिंकों का आनंद... https://www.halchalwith5links.blogspot.com पर...
आप भी इस प्रस्तुति में....
सादर आमंत्रित हैं...

रश्मि शर्मा said...

बढ़ि‍या

Digamber Naswa said...

विश्वास गहरा हो तो ज़रूर पूरे होते हैं ख़्वाब ... भावपूर्ण शब्द ....

Post a Comment