Google+ Badge

Thursday, 5 January 2017

क्या तस्वीरें बोलती हैं

क्या तस्वीरें बोलती हैं
हाँ तस्वीरें बोलती हैं
मैंने उन्हें बोलते हुए
देखा भी है , और सुना भी है
उनकी असीम गहराई को
बहुत करीब से –
देखा भी है , और
महसूस भी किया है 

चुप रह कर भी वो
बहुत कुछ कह जाती हैं ,
मैंने भी इक दिन
अपनी मन की आँखों से
उन महान तस्वीरों को
महान आत्माओं के
दर्शन किए थे ----- 



सालिहा मंसूरी

3 comments:

Kavita Rawat said...

बहुत सुन्दर ..
नए साल की हार्दिक शुभकामनाएं

विरम सिंह said...

आपकी रचना बहुत सुन्दर है। हम चाहते हैं की आपकी इस पोस्ट को ओर भी लोग पढे । इसलिए आपकी पोस्ट को "पाँच लिंको का आनंद पर लिंक कर रहे है आप भी कल शुक्रवार 6 जनवरी 2017 को ब्लाग पर जरूर पधारे ।

सुशील कुमार जोशी said...

अच्छा लिखती हैं । नववर्ष मंगलमय हो । ब्लाग फौलोवर बटन उपलब्ध करायें ताकि ब्लाग का अनुसरण किया जा सके ।

Post a Comment