Google+ Badge

Friday, 6 January 2017

कुछ न सही , मेरी उम्मीदों का

कुछ न सही , मेरी उम्मीदों का
हौसला मेरे पास है
तुम न सही
हर वक़्त
साथ चलता तुम्हारा –
साया मेरे पास है
ताकत न सही
ज़िन्दगी से

लड़ने का जज़्बा मेरे पास है 

-    सालिहा मंसूरी  

0 comments:

Post a Comment