Google+ Badge

Sunday, 8 January 2017

नहीं जानती कि तुम कौन हो

नहीं जानती कि तुम कौन हो
कहाँ रहते हो
और क्या नाम है
लेकिन फिर भी
न जाने क्यूँ ये दिल 

सिर्फ तुम्हारा
इंतज़ार करता है
और ये आँखें उन
चमकते तारों में
तुम्हारा अक्स ढूंढती रहती हैं -----


सालिहा मंसूरी 

0 comments:

Post a Comment