Monday, 9 January 2017

तुम्हें तुम्हें जी भर कर देखूँ

जी करता है
तुम्हें तुम्हें जी भर कर देखूँ
उन तारों के साए में
जो दिखने में बहुत दूर सही
लेकिन मेरे दिल के बहुत पास हैं ------ 


सालिहा मंसूरी 

0 comments:

Post a Comment