Google+ Badge

Tuesday, 7 February 2017

तेरी ज़िन्दगी की हर – इक राह आसां हो जाए

तेरी ज़िन्दगी की हर – इक राह आसां हो जाए 
तेरे सपनों का हर – इक ख्वाब पूरा हो जाए 
तेरी साँसों की डोर न तुझसे दूर हो कभी 
मेरी साँसों की डोर भी तेरी साँसों से जुड़ जाए ..... 

सालिहा मंसूरी 

02.01.16   12:45 pm

0 comments:

Post a Comment