Google+ Badge

Friday, 23 October 2015

कल की ख़बर नहीं

आज जिन्दा हूँ कल की ख़बर नहीं
ये ज़िन्दगी इक धुआं है
जिसे किसी साये की
जुरूरत नहीं ........


- सालिहा मंसूरी

1 comments:

Kavita Rawat said...

बहुत खूब!
कल क्या होगा ये किसने जाना

Post a Comment