Google+ Badge

Monday, 10 October 2016

आंसू

आंसू भी कई तरह के होते हैं
ख़ुशी के भी ,गम के भी
पर मेरे आंसू न तो ख़ुशी के हैं
और न गम के मैनें तो इन्हें उधर माँगा है
तुम्हारी खुशियों के बदले .....

-सालिहा मंसूरी
13 .06 .15 04.45 pm 

0 comments:

Post a Comment